भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंगून 1927 / पाब्लो नेरूदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंगून मैं देर कर आया।
हर चीज़ वहाँ पहले से ही थी --
रक्त का,
स्वप्नों और स्वर्ण का,
एक नगर

एक नदी जो
पाशविक जंगल से
घुटन भरे नगर में
और उसकी कुष्ठग्रस्त सड़कों पर प्रवाहित थी।

श्वेतों के लिए एक श्वेत होटल
और सुनहरे लोगों के लिए स्वर्ण का एक पैगोडा था।
यही था जो
चलता था
और नहीं चलता था। ...

अरुण माहेश्वरी द्वारा अँग्रेज़ी से अनूदित