भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंजो-अलम को जज़्ब दिलों में किये हुए / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंजो-अलम को जज़्ब दिलों में किये हुए
जीते हैं लोग जीने के अरमां लिये हुए

सुक़रात और मीरा के हमसर हैं आज भी
सच के इवज़ में ज़ह्र का प्याला पिये हुए

अम्न और दोस्ती का मुखौटा लगाये फिर
आये हैं वह फ़रेब के ख़ंजर लिये हुए

हर युग में बेबसी ये रही है अवाम की
जीना पड़ा है अपने लबों को सिये हुए

रास आयेगी कभी तो सियासत की धूप-छाँव
ज़िन्दा है हर बशर यही हसरत लिये हुए

इक लम्हा के लिए तो सुकूं बख़्श ऐ खुदा
मुद्दत हुई है जीने-सा जीवन जिये हुए

हमदर्दियाँ भी काम न मरहम का कर सकीं
'दरवेश' ऐसे ज़ख्म थे उनके दिये हुए