भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रक्तबीज / कृष्ण कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रक्तबीज फिर आ गए हैं
एक आतंक की छाया
ख़त्म नहीं होती
दूसरे की ख़बर आ जाती है

आज अमेरिका में
कल अफ़गानिस्तान में
फिर, किसी और जगह
जाति-धर्म की म्यानों में क़ैद
इन रक्तबीजों ने ओढ़ रखा है
सभ्यता और संस्कृति का झीना आवरण

हर सभ्यता और संस्कृति में
घुल जाने वाले ये रक्तबीज
दिन के उजाले में करते हैं
नर-कंकालों के अवशेष पर तांडव

दूर कहीं बैठा कोई
तैयार कर रहा होता है
कुछ नये रक्तबीज ।