भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रचाव / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हां s s
जान लेवा है जरूर
        आ पीड़
आ पीड़ रचाव री

पण
जान लेवा घड़ी नै पछाड़
रूं-रूं में मुळक भरै
         रचाव
रचाव
पीड़ में सुख रो नाम
साखी है
चूंघावती मा रो चितराम