भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रतन / अखियाँ मिलाके जिया भरमा के

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

अखियाँ मिलाके जिया भरमा के
चले नहीं जाना, (हो चले नहीं जाना - २) ) - २

जाओगे तो जाने ना दूंगी मैं रस्ता रोक लूंगी - २
हो सैंया के पैंय्या पड़ जाऊंगी रो के कहूंगी - २
अखियाँ मिला के ...

आहों के बदले आहें लेना जी दगा ना देना - २
हां नैन मोरे ना रोए रोए दिल ये कहे ना - २
अखियाँ मिला के ...

जाने का नाम न लो राजा जी दिल बैठा जाए - २
हां देखो जी देखो दुखी दिल की परे ना हाय - २
अखियाँ मिला के ...