भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंग बदलता समाज / संजय मिश्रा 'शौक'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


समाज को आइना दिखाने की एक कोशिश
का नाम कविता है ये सुना था
 मगर जो मैं देखता हू वो तो उलट है इससे
समाज तो आईने के सच को नकारने की
तमाम कोशिश किये हुए है
वो आईने के तो सामने है
मगर वो आँखों को बंद करके
फ़रेबकारी में मुतमईन है!
 ये कैसी दुनिया है जिसमें
कोई किसी से भी मुत्तफिक नहीं है
ये दौरे हाजिर की जर-परस्ती
हर इक गलत को सहीह साबित करेगी कब तक?
मगर ये आँखें जो देखती हैं वो भी तो सच है
यहाँ पे दौलत के आगे हमने
सलाहियत को तमाम इल्मो-हुनर को
सौदागरों से कीमत वसूल करते हुए भी देखा है
क्या करें हम?
ये आईने भी तो अपने सच से हैं कुछ पशेमां
कि अपनी गैरत की फिक्र
करता नहीं है कोई ?
इसीलिए तो जो सच है यारों
जो कुछ भी अच्छा है इस जमीं पर
वही गलत है!!!