भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रविवार / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज रविवार है
आज ही पहली बार
सूरज की रोशनी में बाहर मुझे लाया गया
और मैं ज़िन्दगी में पहली बार
स्तम्भित हूँ कि आसमान मुझसे इतनी दूर है !
इतना वह नीला है !
इतना वह विशाल है !

मैं वहाँ जड़ बना खड़ा रहा
फिर डरकर ज़मीन पर बैठ गया
मैंने सफ़ेद दीवार से पीठ चिपका दी
इस समय सामने वायवी स्वप्न नहीं
कोई संघर्ष नहीं, मुक्ति नहीं, पत्नी नहीं —
पृथ्वी है, सूरज है, और मैं हूँ —
सुखी हूँ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : चन्द्रबली सिंह