भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रसिया रस लूटो होली में / फाग

Kavita Kosh से
(रसिया रस लूटो होली में/फाग से पुनर्निर्देशित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रसिया रस लूटो होली में,
राम रंग पिचुकारि, भरो सुरति की झोली में
हरि गुन गाओ, ताल बजाओ, खेलो संग हमजोली में
मन को रंग लो रंग रंगिले कोई चित चंचल चोली में
होरी के ई धूमि मची है, सिहरो भक्तन की टोली में

संकलनकर्ता : जगदेव सिंह भदौरिया