भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

रसियो सूरज / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज स्याणो
मांड लिया दो-दो घर

भाख फाटतां ई
अगूण गळी में
राजी करै
भोर बीन्दणी नै
भळै आसूं
कैय’र टुर जावै
दिन भर खटै
अर
आथूंण गळी पूग
सिंझ्यां सुहागण सागै मुळकै
लेवै रातवासो
समंदर महल में

सूरज स्याणै
मांड लिया दो-दो घर
जुगां सूं निभावै
दोनां नै !