भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रहा गर कोई ता क़यामत सलामत / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रहा गर कोई ता क़यामत सलामत
फिर इक रोज़ मरना है हज़रत सलामत

जिगर को मिरे इश्क़-ए-खूँ-नाबा-मशरब
लिखे है ख़ुदावंद-ए-नेमत सलामत

अलर्रग़्मे दुश्मन शहीद-ए-वफ़ा हूँ
मुबारक मुबारक सलामत सलामत

नहीं गर ब-काम-ए-दिल-ए-ख़स्ता गर्दूं
तमाशा-ए-नैरंग-ए-सूरत सलामत

दो-आलम की हस्ती पे ख़त्त-ए-फ़ना खींच
दिल-ओ-दस्त-ए-अरबाब-ए-हिम्मत सलामत

नहीं गर ब-काम-ए-दिल-ए-ख़स्ता गर्दूं
जिगर-ख़ाइ-ए-जोश-ए-हसरत सलामत

न औरों की सुनता न कहता हूँ अपनी
सर-ए-ख़स्ता ओ शोर-ए-वहशत सलामत

वुफ़ूर-ए-वफ़ा है हुजूम-ए-बला है
सलामत मलामत मलामत सलामत

न फ़िक्र-ए-सलामत न बीम-ए-मलामा
ज़-ख़ुद-रफ़्तगी-हा-ए-हैरत सलामत