भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रहि-रहि कऽ जिया ललचाय हो / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रहि-रहि कऽ जिया ललचाय हो, मुरलिया के धुन सुनि
मुरलिया के धुन सुनि, बसुरिया के धुन सुनि, रहि-रहि...
ब्रह्मा त्यागल ब्रह्मलोक केँ, शिवजी तेजल कैलाश हो
राजा छोड़ल राजपाट केँ, रानी छोड़ल शृंगार हो, मुरलिया ...
गइया छोड़ल घासो चरब, बछडू छोड़ल हुंकार हो, मुरलिया...