भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राख / कविता वाचक्नवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राख


राख

काली है

जलावन से बची है

बुझ चुकी है,

किन्तु चिंगारी बचाकर

रख सकेगी

ढाँप ले तो ।