भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजकुमारी, मुझे उंगली पकड़ कर ले चलो / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राजकुमारी, मुझे उंगली पकड़कर ले चलो
आओ कि हम चलें अब
गुज़रें उर्वर अर्धचन्द्र से
लौटें अपनी ज़मीं पर

कोई नहीं पहुँचा सकता हमें क्षति
और हम भी नहीं किसी को

अंधे हो जाने से और बढ़ती है बीनाई
जब तक कि सब रोशन नहीं हो जाता
प्रकाश स्मृति का ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना