भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजनीति / बाल गंगाधर 'बागी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दलित को जानवर समझने का तावीर किया
क्यों इस अमल1 से तैयार यह ज़मीर2 किया
ऐसे कुछ लोगों पर रहा खुमार सदियों तक
मुझे इंसान न समझा और बहुत देर किया
बताओ कैसे वजूद रहा, ज़िन्दा मेरा जमाने में
आजय यह दिया सोच कर ही हाथ में शमसीर3 लिया
न देखा गया फिर उन ज़ुल्म की घटाओं को
जिन्होंने आसमां से था नूर मेरा छीन लिया
साजिश की घटा मेरी बर्बादी पर न बरस
तू भी जल जायेगी गर ‘बाग़ी’ सीना चीर