भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजस्थानी भासा री आसा / मनोज चारण 'कुमार'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सासा सूं इतरी आसा क्यूं,
कूख जायेङा नीं स्वीकार करै,
डांगा टेकै जायोङा जद,
माँ किणबिध जीवण पार करै।
रति रो माजनो है जिणरो,
बै ढ़ांढ़ा खङ्या उजाङ करै,
रळकाओ बानै सोटां सूं,
बै सैंसू बत्ती बिगाङ करै।
मायङ री जिणनै शान नहीं,
बै करमखोङला है नाजोगा,
अैङै नाजोगां रो नास हुवै,
आ बात घणी जरूरी है,
भासा भूमी भख मांगै सदा,
भख देणूं भोत जरूरी है।।