भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राज़ न पूंछो / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हँस रहा हूँ मै आप की महफिल में,
आज मेरे हँसने का राज़ न पूंछो...!

जिन्दगी की ग़जल गुनगुनाने चला ,
निकली जो हलक से आवाज़ न पूंछो...!

कोशिश थी एक हशीं मुशायरे की,
गमे शायरी का ये अंदाज़ न पूंछो...!

बजता ही रहा जिन्दगी की धुन पर ,
रौनके महफिल का साज़ न पूंछो....!

आ गयी जो ये बात जुबाँ पर आज ,
मकशद -ए- बयाँ आज न पूंछो...!

हँस रहा हूँ मै आप की महफिल में,
आज मेरे हँसने का राज़ न पूंछो...!