भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजा को भाए.. / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राजा को भाते बस
मुस्काते हँसते चेहरे
चेहरों पर आये मुस्कान
करना पड़ेगा राजा को
बहुत कुछ
नहीं कुछ
सरोकार पर राजा को

उसे तो बस भाते हैं
मुस्काते हँसते चेहरे