भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात अटकी है क़मर देखने वाले न गए / रवि सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात अटकी है क़मर[1] देखने वाले न गए 
कैसे सिमटे ये बहर[2] तैरने वाले न गए

देख तारीख़ के इस दौर में बेचैनी है
होशो-ज़िद रख्ते-सफ़र[3] पीठ पे डाले न गए

वो सदी थी कि इमारत बनी भी टूटी भी 
ये सदी है कि अभी ख़्वाब भी पाले न गए 

राख होना ही था आख़िर क’ तुख़्मे-आतिश[4] में
रौशनी के ख़यालो-राज़ जो डाले न गए 

क्या शिकायत जो कायनात[5] में क़हर बरपा 
हमसे इक दिल के हादसात[6] तो टाले न गए

ज़ख़्मे-दिल खोल के बैठेंगें जो तन्हा होंगें
सामने उनके ही तोहफ़े वो निकाले न गए

बे-नियाज़ी[7] मिरी अब नागवार है उनको
जिनसे वो साल लगावट के सँभाले न गए

इक धमाका था जो आलम[8] की फुसफुसाहट है
और उनको है गिला दूर तक नाले[9] न गए 

एक मासूम जली मुल्क के उस कोने में 
ता-अबद[10] क़ौम की हस्ती से ये छाले न गए 

शब्दार्थ
  1. चाँद (the moon)
  2. समुद्र (the sea)
  3. यात्रा के लिए सामान (things needed on a journey)
  4. आग के बीज (seeds of fire)
  5. ब्रह्माण्ड (Universe)
  6. दुर्घटनाएँ (accidents)
  7. निस्पृहता, उदासीनता (unconcern)
  8. संसार (world)
  9. पुकार (wails)
  10. अनन्त काल तक (till eternity)