भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात को हार्लेम में एक अंतयेष्टि / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  रात को हार्लेम में एक अंतयेष्टि

रात को हार्लेम में एक अंत्येष्टि

कहाँ से मिली उन्हें
सुंदर-सी वे दोनों गाड़ियाँ

इंश्योरेंस का आदमी
उसने किश्तें अदा नहीं की थीं
और उसका इंश्योरेंस
अगले ही दिन ख़त्म हो गया
फिर भी उन्होंने जुटा लिया
साटन से सजा ताबूत
उसके लिए

रात को हार्लेम में एक अंत्येष्टि

किसने भेजा होगा फूलों का तोड़ा
उस ग़रीब लड़के के दोस्तों ने ही भेजा होगा
इन सबको फूल भी चाहिए
अपनी मौत पर

रात को हार्लेम में एक अंत्येष्टि

किसने दिया उपदेश
उस काले लड़के को
उसकी क़ब्र पर
बूढ़े उपदेशक ने दिया
उसे आख़िरी उपदेश
जिसके लिए उसने पाँच डालर माँगे
उसकी दोस्त को देने पड़े

रात को हार्लेम में अंत्येष्टि

और जब सारा आयोजन समाप्त हो गया
और जब ताबूत बन्द कर दिया गया
और जब शोक-संगीत भी रुक गया
और जब अंतिम प्रार्थना भी पढ़ ली गई
और जब ताबूत ढोने वाले भी उसे ले गए
फिर लेनेक्स एवेन्यू में तरह-तरह की बातेम फैलीं
जिसके कोने में स्ट्रीट लाइट
आँसू की ठीक एक बूँद की तरह
चमकती रही

वह लड़का
जिसका वे लोग शोक मना रहे थे
इतना प्यारा था, इतना प्यारा था
उन लोगों को जो फूल लाए
उस लड़की को
जिसने उपदेशक को पैसे दिए
कि उन लोगों के आँसुओं ने ही
उस ग़रीब लड़के की अंत्येष्टि को
इतना शानदार बना दिया

रात को हार्लेम में एक अंत्येष्टि


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय