भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात लेके निकला / सूरज राय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जितनी थी मुझ ग़रीब की औकात लेके निकला
रिश्तों को मैं ख़रीदने जज़्बात लेके निकला

ख़ामोश हैं ज़ुबानें, इंसाँ, अजल, ख़ुदा
ये कौन ज़िंदगी के सवालात लेके निकला

कहते हैं ख़ुदा जिसको, सब ख़त्म है जहाँ पर
उस छोर से वो अपनी शुरुआत लेके निकला

सहरा से अधिक वीराँ दिल मेरा सही, लेकिन
इस दिल में जो भी आया बरसात लेके निकला

ये किसके ख़यालों से जुंबिश हुई है दिल में
है कौन है जो शमशान से हयात लेके निकला

‘सूरज’-ओ-चाँद जिसके फ़ानूस के थे क़ैदी
वो भी जहाँ से निकला तो रात लेके निकला