भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रामसिंह / लीना मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1.

मेरी चीख़ की धार से धरती दो टुकड़ों में बँट गई,
धरती के मेरे टुकड़े पर
तुम्हारे लिए कोई जगह नही है, रामसिंह ।

2.

शुक्र है, रामसिंह
तुम मेरे पड़ोस में नहीं रहते
जहाँ सौंपती हूँ मैं अपने विश्वास की चाबी ।