भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राम राज / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छेलै रामोॅ रोॅ राज पाट,
बाघें-बकरी पानी पीयै छेलै एके घाट।
मुनी महात्मा कही केॅ गेलोॅ,
लुच्चा लफंगड़ राजा भेलोॅ;
सभै के नोची-चोथी केॅ खाय छै,
चोरोॅ-बदमाशोॅ केॅ पोसै छै;
बोलभोॅ बेशी तेॅ मरबैतोॅरास्ता-बाट,
छेलै रामोॅ रोॅ राज पाट।

है कि होलै हो विधाता,
बापोॅ-बेटा आरो समाजोॅ सें टूटलै नाता;
एक दोसरा रोॅ मूं पोछैय छै,
पैसा भरी सभेॅ सटैय छै;
ठगै रोॅ लगलोॅ छै हाट
छेलै रामोॅ रोॅ राज पाट।

बदलतै जबेॅ सभै रोॅ विचार,
पनपतै फरू धरमोॅ रोॅ संसार;
जबेॅ करमोॅ-धरमोॅ रोॅ बात करतै,
तबेॅ पापोॅ रोॅ दिन-रात कटतै;
‘‘संधि’’ पढ़ै छै नीति रोॅ पाठ,
छेलै रामोॅ रोॅ राज पाट।