भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राम सिंग डरता है / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रामसिंग डरता है
कुछ ऐसी चीज़ों से जो दिखलाई नहीं पड़तीं
मसलन ईश्वर-सरकार,रोग-भोग,इकरार-प्यार,मेहर-कहर
डरता है कुछ चीज़ों से जो दिखती हैं सामने साफ़ृ-साफ़
मसलन रेट-पेट-ग़ेट,माल-गाल-चाल,अस्पताल।

खाता है जल्दी-जल्दी
जैसे खदेड़ रा हो ग़डरिया
लेता है स्वाद डर-डर कर।

देखता है जल्दी में
जल्दबाजी में पुचकारता है
पुकारता है जल्दी मे।

सोता है जल्दी-जल्दी
उठता है जल्दी-जल्दी

डर-डर कर बोलता है
सुनता है डर-डर कर।

खाता है डर-डर कर
डर-डर प्अर पीता है।

हँसता है डरकर
डरता हुआ रोता है।

वह सोचता है
चार जने जो हँसी ठोठोली कर रहे
उस पर
वे लोग खडयंत्र रच रहे
उस पर
बार-बार जो उठ रही उँगली
उस पर।

राम सिंग
डर-डर कर जिया है
मरेगा डर-डर कर।