भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रिमझिम-रिमझिम मेहा बरसे / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रिमझिम-रिमझिम मेहा बरसे, काळा बादळ छाया रे
पिया सूं मलबां गांव चली, म्हारे पग में पड ग्या छाला रे
रिमझिम...

भरी ज्वानी म्हांने छोड गया क्यूं, जोबन का रखवाला रे
सोलह बरस की रही कुंवारी, अब तो कर मुकलावां रे
रिमझिम...

घणी र दूर सूं आई सजनवां, थांसू मिलवा रातां रे
हाथ पकड म्हांने निकां बिठाया, कान में कर गया बातां रे
रिमझिम...