भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रिमझिम रिमझिम घन घिर अइहो / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रिमझिम-रिमझिम घन घिर अइहो
मोरी जमुना जुड़इहें ना।

मद्धिम-मद्धिम जल बरसइहो
मोरी जमुना अघइहें ना।

कदम के नीचे श्याम खड़े हैं
मुरली अधर लगाए

बंसिया बाज रही बृंदाबन
मधुबन सुध बिसराए

हौले-हौले पवन चलइहो
मोरी जमुना लहरिहें ना।

रिमझिम-रिमझिम घन घिर अइहो
मोरी जमुना जुड़इहें ना ।

रस बरसइहो बरसाने में
भीजें राधा रानी

गोपी ग्वाल धेनु बन भीजें
भीजें नन्द की रानी

झिर-झिर झिर-झिर बुन्द गिरइहौ
मोरी जमुना नहइहें ना।

रिमझिम-रिमझिम घन घिर अइहो
मोरी जमुना जुड़इहें ना।