भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रीटा और राइफ़ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक राइफ़ल होती है
रीटा और मेरे दरम्यान
और जो भी जानता है रीटा को
झुकता है उसके सम्मुख और शहद की रंगत वाले उसके केशों
की दिव्यता से खेलता है
और मैंने रीटा को चूमा
जब वह युवा थी
और मुझे याद है किस तरह वह नज़दीक आई थी
और कैसे मेरी बाँहें ढँके थीं उन प्यारी लटों को
और मैं याद करता हूँ रीटा को
जिस तरह एक गौरैय्या याद करती है अपनी धारा को
उफ़ रीटा
हम दोनों के दरम्यान लाखों गौरैयें और छवियाँ हैं
और बहुत सारी मुलाक़ातें
जिन्हें राइफ़ल से दाग़ा गया है
रीटा का नाम मेरे मुँह ले लिए एक भोज था
रीटा की देह मेरे रक्त का विवाह था
और मैं दो बरस खोया रहा रीटा में
और दो साल तक सोया की वह मेरी बाँहों में
और हमने वायदे किए
सुन्दरतम प्यालों के दौरान
और हम अपने होठों की शराब में दहके
और हमने दोबारा जन्म लिया
उफ़ रीटा!
इस राइफ़ल के सामने कौन सी चीज़ मेरी आँखों को तुमसे दूर हटा सकती थी
सिवा एक छोटी सी नींद या शहद के रंग के बादलों के?
एक दफ़ा
उफ़, गोधूलि की ख़ामोशी
सुबह मेरा चन्द्रमा किसी सुदूर जगह जा बसा
उन शहद रंग की आँखों की तरफ़
और शहर ने बुहार दिया सारे गायकों को
और रीटा को
रीटा और मेरी आँखों के दरम्यान -
एक राइफ़ल


अनुवाद : अशोक पाण्डे

शब्दार्थ