भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रुञ / सतीश रोहड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ॾोहु कंहिं खे ॾिजे?
तोखे
तुंहिंजी ॼाण खे
या
तुंहिंजीअ अणॼाणाईअ खे?
इएं समुझियो हो त तो
रुञ
रुॻो मैदान में हून्दी आहे
वारीअ में पाणीअ जो
दोखो ॾियण वारी।
तोखे ख़बर न हुई त
केतिरा खूह बि रुञ सां
भरियल हून्दा आहिनि।
मैदान में रोशनी
रुञ खे जनमु ॾीन्दी आहे
खूह जी रुञ खे
ऊंदहि ढके रखन्दी आहे
तूं रोशनीअ जी रुञ खां भॼी
खूह ॾांहुं हलियो आयें
खूह में लही वियें
ऐं पहुतें ऊंदहि सां ढकियल
रुञ वटि!

हाणे
ॿाहिर रोशनीअ जी रुञ आहे
ऐं अन्दर ऊंदहि जी रुञ
हाणे तो लाइ अहम सुवालु-
खूह में वेही रहणु, या
ॿाहिर अचण जो न आहे
तो लाइ हाणे
अहम सुवालु आहे
रुञ में रहण जो
रुञ पिअण जो
रुञ पी जीअण जो!

(रचना- 85, 2000)