भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रुपहले डन्डेलिओन / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » रुपहले डन्डेलिओन

नहाये झुटपुटे के प्रकाश में
रुपहले रंग के डन्डेलिओन
प्रस्फुरित करते हैं कुछ
हर मैदान में .
'अहा मैं फैला रहा हूँ पांख
अपने सर पर
खूब झबरीले .
'तुम भी ?क्या नहीं ?"
"अहा, मैं भी ?"
"हम क्यों बदल रहे हैं ?"
"लगता है मैं उड़ सकता हूँ !"
"क्या मैं उडूँ?"
उसी पल ,
एक स्वर गूंजता है स्वर्गलोक से ,-
"जब हवा बहती हो ,
हो जाना सवार उस पर !"
झबरीले डन्डेलिओन
कर रहे हैं प्रतीक्षा हवा की
धड़कते दिल से !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना