भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रूप / अरविन्द पासवान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो
गला फाड़कर चिल्ला रहे थे
सबसे ज्यादा

यज्ञ
अजान और
अरदास में

वही

गलियों
नुक्कड़ों व
चौक-चौराहों पर
दिख जाते
कंस, कसाई या कमीने के रूप में