भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रूह लम्हों में बिखरती रही / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रूह लम्हों में बिखरती रही
जिश्म रास्ते बदलता रहा !

जिन्दगी ख्वाहिशों में सिमटती रही
दिल अंजामों से दहलता रहा !

सांसों पे पहरा था मौत का ,
वख्त मुश्कों में मचलता रहा !

वहम था जिन्दा है हर कोई,
यह तो सदमें में झुलसता रहा !