भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेखागणित के प्रश्न / लेव क्रापिवनीत्स्की

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(एकमात्र विकल्‍प वहाँ है जहाँ मनुष्‍य के विवेक के लिए कोई विकल्‍प नहीं — लेव शिस्‍तोफ़)

ध्‍यान से देखो बिना ऐनक
चौराहे के ठीक बीच में
घोर अपावनीकरण के बाद
पाखण्ड के साथ किया उच्‍च घोष
और आर्तनाद ।

निकाल फेंका बाहर ।
जो नि‍ष्क्रिय बैठे थे
लापता हो गए जीवन में ।
पर आप तो
परखना नहीं चाहते थे पास से
और उसके बिना ही
बुरी तरह प्रदूषित हो चुका था पागलपन ।

खेल रहे हैं वे
ज़मीन के नीचे क्रॉसिंग पर कहे जा रहे हैं बार-बार
यह मैं हूँ, यह मेरा सपना है… इत्‍यादि ।

निर्विवाद है यह :
पाँवों के नीचे
कर्र-कर्र की आवाज़ कर रही हैं
अकेले लोगों की दुनिया की विसंगतियाँ ।
और कुछ तथ्‍यों के सीमांत पर
नंग-धड़ंग घुस गई हैं वे एक कोण में
नि:सन्देह,
अपने किनारों के साथ ।