भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेगिस्तानी कुत्ते / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रेगिस्तानी कुत्ते मेरे सपनों में भागते हैं,
फुर्तीले, चुस्त और ख़ामोश,
ठीक ख़ुदा की हवाओं की तरह;

ख़ूबसूरत और राजसी,
रात-दर-रात
अ-वश्य वे भागते हैं ।

मैं सूँघती हूँ,
स्वाभाविक है, मैं सूँघती हूँ :
मेरा हृदय उनका आखेट है ।

कैसे तृप्त होती कभी
अगर थकने तक नहीं भागती मैं;
अगर रात-दर-रात नहीं भागती,
दौड़ नहीं लगाती
मायावी, अजनबी
रेगिस्तानी कुत्तों के सँग ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर