भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेडियो / देवेंद्रकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तटस्थ
निरपेक्ष
रेडियो बज रहा था-
बिखरे थे पंख

तने फट रहे थे
सड़क चौड़ी होगी
प्रगति रथ के लिए।

तू मेरा प्यारा सजन
तुन तुन तुन
अस्पताल के बाहर
खून सूख गया,
अंदर विषाक्त ग्लूकोज
अनेक प्राण पी चुका
बैठे हैं पुल पर
डूबी झोंपड़ियों वाले
छक्का-चौका
दर्शक पचास हजार
चौराहे पर
अनावरण
आदमकद महानता का
पचासवीं बार।

डगमग टांगों पर
पेट का वहम संभाले
दो बच्चे-
‘एक पैसा मिल जाए बाबू’
आओ चलें बादलों के पार

तटस्थ
निरपेक्ष
रेडियो बज रहा था
आओ खबरें सुनें।