भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेत / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे मेरा दिल ले गए और छोड़ गए यहाँ
पूरा का पूरा
अपनी रेत के साथ
मौसम इतना शान्त है
कि ख़ामोशी के परिन्दे जाग रहे हैं

रोशनी नहीं पर अँधेरा चाहिए भीतर
ताकि उन आँखों को बन्द कर सकूँ जो खुली रहना चाहती हैं

जिसने हमे जन्म दिया है
उसी ने दर्द को भी पैदा किया
क्या नहीं ?

उन्होंने छोड़ा मुझे यहाँ
रेत की तरफ
पहाड़ की तरह देखते हुए

यदि मेरी त्वचा रह जाती अपनी माँ के ही भीतर
मैंने उससे कुछ भी नहीं माँगा होता ।