भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेशमी सुधियाँ / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूली बिसरी सुधियों के संग एक कहानी हो जाए,
तुम आ जाओ पास में मेरे तो रुत रूमानी हो जाए ।

मन अकुलाने लगता है चंदा की तरुणाई से,
रजनीगंधा बन जाओ तो रात सुहानी हो जाए ।

रेशम होती हुई हवाएँ तन से लिपटी जाती हैं,
पुरवाई में बस जाओ तो प्रीत सयानी हो जाए।

मन बँधने सा लगता है अभिलाषाओं के आँचल में,
प्रिय, तुम प्रहरी बन जाओ थोड़ी मनमानी हो जाए।