भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रैन बसेरा(चोका) / सुधा गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रैन बसेरा
चल, उठाले डेरा
हुआ सवेरा
क्या भला यहाँ मेरा
जो कुछ मिला
सब यहीं निबेरा
दु:खों से घिरा
खुद लाचारों -द्वार
था चकफेरा
मेरी मूरखता थी
करुणाघन !
कभी तुझे न टेरा
दो बूँद जल !
मुमूर्षु चातक ने
तुझे है हेरा
एक आस लगी है
तारनहार !
कर दो बेड़ा पार
दीन वत्सल !
करो जुगत ऐसी
फिर से न हो फेरा ।
-0-