भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोगी वाहन / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माल रोड़ पर बंद हैं वाहन
नहीं इजाजत किसी को सवारी पर आने की।


वाहन आए तो
होगा रोगी वाहन।


पहले आती थी यहाँ
गोरों की सवारी रिक्शे पर
या बड़े लाट की गाड़ी
तब भी थी मनाही
अब भी है मनाही।

आती है अब भी कभी
चीनी जूते खरीदने
महिला महामहिम की सवारी

या किसी सिरफिरे सेनानायक की
या किसी ज़िद्दी नेता की।

चाहे सवारी आ जाए माल पर
सत्ता के ज़ोर
समझा यही जाता
रोगी हैं इस में बैठे लोग।