भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोज़ की मसाफ़त से चूर हो गये दरिया / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोज़[1] की मसाफ़त[2] से चूर हो गये दरिया[3]
पत्थरों के सीनों पे थक के सो गये दरिया

जाने कौन काटेगा फ़स्ल लालो-गोहर[4] की
रेतीली ज़मीनों में संग[5] बो गये दरिया

ऐ सुहाबे-ग़म[6]! कब तक ये गुरेज़[7] आँखों से
इंतिज़ारे-तूफ़ाँ[8] में ख़ुश्क [9] हो गये दरिया

चाँदनी से आती है किसको ढूँढने ख़ुश्बू
साहिलों[10] के फूलों को कब से रो गये दरिया

बुझ गई हैं कंदीलें[11] ख़्वाब[12] हो गये चेहरे
आँख के जज़ीरों[13] को फिर डुबो गये दरिया

दिल चटान की सूरत सैले-ग़म[14] प’ हँसता है
जब न बन पड़ा कुछ भी दाग़ धो गये दरिया

ज़ख़्मे-नामुरादी[15] से हम फ़राज़ ज़िन्दा हैं
देखना समुंदर में ग़र्क़[16] हो गये दरिया

शब्दार्थ
  1. प्रतिदिन
  2. यात्रा
  3. नदियाँ
  4. हीरे मोतियों की खेती
  5. पत्थर
  6. दुख के मित्रो
  7. उपेक्षा
  8. तूफ़ान की प्रतीक्षा में
  9. सूख गये
  10. तटों
  11. दीपिकाएँ
  12. स्वप्न
  13. टापुओं
  14. दुखों की बाढ़
  15. असफलता के घाव
  16. डूब गये