भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोज़ ख़्वाबो में आकर चल दूंगा / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोज़ ख़्वाबों में आ के चल दूँगा,
तेरी नीदों में यूँ ख़लल दूँगा ।

मैं नई शाम की अलामत हूँ,
ख़ाक सूरज के मुँह पे मल दूँगा ।

अब नया पैरहन ज़रूरी है,
ये बदन शाम तक बदल दूँगा ।

अपना एहसास छोड़ जाउँगा,
तेरी तन्हाई ले के चल दूँगा ।

तुम मुझे रोज़ चिट्ठियाँ लिखना,
मैं तुम्हें रोज़ इक ग़ज़ल दूँगा ।