भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोजा / भारत हमको जान से प्यारा है

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: पि.के. मिश्रा                 

भारत हमको जान से प्यारा है
सबसे न्यारा गुलिस्तां हमारा है

सदियों से भारत भूमि, दुनिया कि शान है
भारत माँ कि रक्षा में, जीवन कुर्बान है
भारत हमको जान से प्यारा है ...

उजड़े नही अपना चमन, टूटे नहीं अपना वतन
गुमराह न कर दे कोई, बर्बाद न कर दे कोई
मन्दिर यहाँ मस्जिद यहाँ, हिन्दु यहाँ मुस्लिम यहाँ
मिलते रहे हम प्यार से, जागो ...

हिन्दुस्तानी नाम हमारा है, सबसे प्यारा देश हमारा है
जन्मभूमि है हमारी, शान से कहेंगे हम
सब ही तो भाई भाई, प्यार से रहेंगे हम
हिन्दुस्तानी नाम हमारा है, भारत हमको जान से प्यारा है

आसाम से गुजरात तक, बंगाल से महाराष्ट्र तक
जाती कई धुन एक है, भाषा कई सुर एक है
कश्मीर से मद्रास तक, कह दो सभी हम एक हैं
आवाज दो हम एक हैं, जागो ...