भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोज / विवेक चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन एक पहाड़ है,
सूरज है सुबह की चाय
सांझ पहाड़ के पार एक झील है
रात है उसमें डूब के मर जाना ...