भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोटी के पैदा होते ही / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


रोटी के पैदा होते ही

बुझे नैन में

जुगनू चमके,

और थका दिल

फिर से हुलसा,

जी हाथों में आया,

और होंठ मुस्कराए,

घर मेरा

वीरान पड़ा--

आबाद हो गया ।