भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोटी रो टुकड़ो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेजां ई सोरो है
ओ कैवणो
आदमी नै झुकणो नईं चाईजै
पण देखो तो सरी
मिनख री मनस्यावां
पांगळी करण खातर
बासी रोटी रो टुकड़ो
कुदड़का करतो
कुस्ती करण खातर ऊभो है
ओ तो मिनख है जिको कैवै
म्हैं फेर ई लड़ूंला !