भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोप दो कुछ (छत पर प्रकाश) / शेल सिल्वरस्टीन / नीता पोरवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बनाओ
एक ऊटपटाँग तस्वीर

रचो
शरारती एक कविता

गुनगुनाओ
बेतुका कोई गीत

सीटी बजाओ कंघी से
नाचो दीवाने की तरह
फलाँग जाओ रसोई का फ़र्श
रोप दो दुनिया में थोड़ा भोलापन

जो पहले
कभी किसी ने
न किया हो

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : नीता पोरवाल