भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

रोवै ऐकली रात जद / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोवै ऐकली रात जद
औ चांद पूछै बात कद

ऊभी आ आडी जावै
ऐ फेरा लिया सात जद

प्रीत-खेल में सदा जीत
आ मात बोलो मात कद

खरूंट हेठै घाव हर्‌यो
मन भूलै हुई घात कद

थरी म्हारी कही एक
निभसी आपणी बात जद