भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोशन हुई शिखर श्रृंखला / गुलाम अहमद ‘महजूर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिटे तमस, होगा प्रकाश, सूरज ने ज्योति बिखेरी है
रोशन हुई शिखर श्रृंखला।
पहाड़ियों, पर्वत श्रृंगों पर फैली ज्योति घनेरी है
रोशन हुई शिखर श्रृंखला।

बाग़ों के ‘वारिल’ [1] ‘रींज़िलों’ [2] को कर देंगे मटियामेट,
चिन्ता छोड़ो बुलबुल, पंख खोल हवा से कर लो भेंट,
अब के बाद जगत में तेरी रीत चलेगी रस्म चले-
रोशन हुई शिखर श्रृंखला।

हद से भी ज़्यादा शाखाएँ पेड़ जो कभी फैलाएँ,
माली ऐसे पेड़ों की ही तराशता है शाखाएँ,
तू भी अपनी सोच को सीमाओं में रखना, ध्यान रहे-
रोशन हुई शिखर श्रृंखला।

गुलेलाला के फूल स्नेह से सिंची मशालें जलाएँगे
उनकी जोत से नभ को रोशन कर लेंगे दमकाएँगे
नरगिस अपने प्यालों में शबनम की मदिरा ढालेगी-
रोशन हुई शिखर श्रृंखला।

सूरजमुखी थाल मुहरों से सजा सजा भर भर लाया
प्यार के नभ से राशि राशि वैभव और सुख लेकर आया,
उसके स्वागत में गुलेलाला ने हरयल जलाया रे-
रोशन हुई शिखर श्रृंखला।

जब चिनार से नीड़ चील का तोड़, उतारा जाएगा,
पैदा होगी तब बुलबुल के बचने की कोई आशा,
‘पोशिनूल’ [3] भी होश सँभाले राहत की साँसें लेंगे-
रोशन हुई शिखर श्रृंखला।

शब्दार्थ
  1. एक सौम्य शांतिप्रिय पक्षी
  2. एक आक्रामक पक्षी
  3. एक सुंदर नाज़ुक पक्षी