भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लगातार बारिश / ग्युण्टर ग्रास / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फैलती जाती है दहशत, धमकी दे रहा नवम्बर ।
धूप से नहाते लम्बे दिन मिलेंगे अब कभी नहीं
आख़िरी मक्खियाँ गिरती हैं दीवार से धरती पर,
समय के फ़ास्ट फ़ूड के बाद निश्चलता ही बची रही ।

मकान मालिक की चिन्ताएँ बुनियाद पर आधारित,
आज निबटना पड़ सकता है कल के खोटे काम से ।
नौजवान जो, - अभी से जर्जर – पेंशन के लिये चिन्तित ।
और जनता के वो प्रतिनिधि रहते हैं आराम से ।

डर के मारे कर लिया उन्होंने दुगुना अपना भत्ता ।
टाई पहने स्किनहेड को पदक मिले अलबत्ता ।
इस कारोबार के भविष्य का अब भी जो है कायल,
युगधर्म का नशा उसको कर चुका है घायल ।

दो-तिहाई बहुमत साथ उसके, जो डर से एक होता;
नवम्बर की इस बारिश में एक विदूषक रोता ।

मूल जर्मन से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य