भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लड़की / एज़रा पाउंड / एम० एस० पटेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वृक्ष मेरे हाथों में समा गया है,
रस मेरी भुजाओं में चढ़ आया है,
वृक्ष मेरे वक्ष में उग आया है —
अधोमुखी,
मुझमें से डालियाँ फूटती हैं बाँहों की तरह

तुम वृक्ष हो
तुम पुष्पहीन पौधा हो,
हवा के साथ उनके ऊपर तुम बनफ़शा हो ।
एक बच्चा - इतने ऊपर - तुम हो,
और यह सब दुनिया के लिए ना-समझी है ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : एम० एस० पटेल

लीजिए अब मूल अँग्रेज़ी में यही कविता पढ़िए
                Ezra Pound
                      A Girl

The tree has entered my hands,
The sap has ascended my arms,
The tree has grown in my breast-
Downward,
The branches grow out of me, like arms.

Tree you are,
Moss you are,
You are violets with wind above them.
A child-so high-you are,
And all this is folly to the world.