भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लड़की / ओक्तावियो पास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
तीसरे पहर के मध्य प्रतिरोध करती हुई
और रात्रि के मध्य समेटती-सहेजती हुई
एक कमसिन लड़की की टकटकी ।

पढ़ने-लिखने के प्रति बेपरवाह,
उसका समूचा अस्तित्व दो स्थिर आँखों में सिमटा हुआ ।
दीवार पर रोशनी ख़ुद-ब-ख़ुद हट जाती है ।

वह अपना अंत देखती है या अपना आरम्भ ?
कहेगी कि कुछ नहीं देखती ।
अनंत विस्तार पारदर्शी है।

वह कभी नहीं जानेगी कि उसने क्या देखा ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल