भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लड़की / बालकृष्ण काबरा ’एतेश’ / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुस्त दुपहरी और
धीरे-धीरे गहराती रात के बीच
एक युवा लड़की की टकटकी।

अपनी नोटबुक और लिखने का उसे ध्यान नहीं,
वह है दो स्थिर आँखें.
दीवार से आती रौशनी विलीन हो चुकी है।

क्या उसने अपना अन्त या अपना आरम्भ देखा?
वह कहेगी कि उसने कुछ नहीं देखा।
अनन्त है पारदर्शी।

उसे कभी भी पता न चलेगा कि उसने क्या देखा।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’